Category: Uncategorized

0

wefgvwef

3 समझदारी की भावना का विकास| वार्सेल ने तीसरा कारक समझदारी को माना है । शिक्षक ही बालक में इस गुण का विकास करने में सक्षम है | अधिगम को समझने व उसे उपयुक्त...

0

etgheg

यह संदूक इस ढंग से बनाया गया था कि अन्दर की चिटकनी पर पैर पड़ते ही वह स्वत: खुल जाए | संदूक के बाहर मछली का टुकड़ा रखा गया । संदूक ऐसा था कि...

0

etewd

अधिगम प्रक्रिया में ध्यान का होना अति आवश्यक है । ध्यान के स्थिर होने से दर्बल उद्दीपन होने पर भी उसकी अनुभूति व्यक्ति को होगी । ध्यान के विकास में शारीरिक क्षमता, इच्छा शक्ति...

0

sdvsdv

99 *स्वमूल्यांकन प्रश्न 1. संवेग का अर्थ एवं विशेषताओं का वर्णन करें ।। 2. उपयुक्त उदाहरणों द्वारा संवेग के प्रकारों का वर्णन करें । 3. संवेग के विकास को सीखने का महत्व बताइए ।...

0

sdvvsa

सामाजिक परिपक्वता के कारण वह बिना पक्षपात के दूसरे लोगों के साथ अच्छे समायोजन करने में सफल होता हैं । वह अपने परिवार के प्रति स्नेह और आदर रखता हैं । वह परिवार के...

0

scfas

बालकों में आयु व परिपक्वता के आधार पर ये क्षमताएँ विकसित हो जाती है । 4.5 बालकों का ज्ञानात्मक विकास व शिक्षाशिक्षा का उद्देश्य है बालक का सर्वांगीण विकास । सर्वांगीण विकास की प्रक्रिया...

0

ascascs

की आवाज भारी होने लगती है तथा किशोरियों की आवाज सुरीली होती जाती है । स्वमूल्यांकन प्रश्न 1. विकास के विभिन्न आयाम कौन-कौन से हैं ?बाल्यावस्था को मिथ्या परिपक्वताकाल क्यों कहा जाता है? 3....

0

nihjh

इसके अन्तर्गत दो वर्ग (प्रयोज्य) होते हैं । एक वर्ग नियन्त्रित रहता है और एक वर्ग प्रयोगात्मक | दोनों वर्गों से प्राप्त परिणामों की तुलना की जाती हैं । इसमें निश्चित परिस्थितियों या दशा...

0

sdvsdvv

यही कारण है कि शारीरिक विकास की दृष्टि से पिछड़े बालक संवेगात्मक सामाजिक और बौद्धिक विकास में उतने ही पीछे रह जाते हैं । 2.6.8 सामान्य व विशिष्ट प्रतिक्रियाओं का सिद्धान्तविकास की सभी क्रियाओं...

0

rfrevs

प्रत्येक समाज पूर्व में अर्जित अनुभवों को अपनी सन्ततियों में स्थानान्तरित करना चाहता है । जिससे सन्ततियाँ अपेक्षाकृत अधिक सुगम जीवन प्राप्त कर सकें इसी जैविक अपेक्षा के द्वारा औपचारिक (Formal), अनौपचारिक (informal), निरौपचारिक...